General InformationHindi Lekh

उत्तर प्रदेश की प्रमुख नदियाँ – Popular Rivers in Uttar Pradesh

Popular Rivers in Uttar Pradesh – यदि आप उत्तर प्रदेश की प्रमुख्य नदियाँ जानना चाहते है तब आप इस लेख के मद्द्यम से सम्पूर्ण जानकारी पा सकते है, आप भारत की प्रमुख्य नदियां तो जानते ही होंगे, जो GK Important Question है, लेकिन क्या आप Major Rivers of Uttar Pradesh PDF के बारे में जानते अगर नहीं तो आप सही जगह है, यहाँ से UP Rivers Pdf, उत्तर प्रदेश की नदियाँ pdf पा सकते है |

जैसा की हम जानते है की भारत में बहुत सी नदिया है, उसी के साथ साथ UP एक ऐसा प्रदेश है जो सबसे ज्यादा नदियों वाले प्रदेश में आता है, क्यूंकि यहाँ संस्कृति काफी ज्यादा है, प्यारी प्यारी नदियां है जिनका लोग आनंद उठाते है | यदि आप भी Up River का मुआफजा करना चाहते है तो इस लेख के मद्द्यम से कर सकते है |

उत्तर प्रदेश की प्रमुख्य नदियाँ

उत्तर प्रदेश की प्रमुख नदियाँ - Popular Rivers in Uttar Pradesh

भारत की नदियों (Rivers of India) को चार समूहों में वर्गीकृत किया जा सकता है, जो निम्न प्रकार से है :-

1) हिमालय की नदियाँ
2) प्रायद्वीपीय नदियाँ
3) तटीय नदियाँ
4) स्थलीय प्रवाह क्षेत्र की नदियाँ

यदि हम सबसे ज्यादा प्रचलित नदियां (Popular Rivers of UP) की बात करे तो गंगा और यमुना (Ganga & Yamuna)  का नाम सबसे पहले आते है, क्यूंकि यह काफी सुन्दर और प्रमुख्य नदियां भी है, आपने कई बार इनको भारतीय फिल्मो में भी देखा होगा और सबसे ज्यादा GK Question इन्ही दो नदियों के आते है |

गंगा नदी (Ganga River)

गंगा नदी भारत के अलावा बांग्लादेश में भी बहती है। यह नदी 2625 किमी लम्बी है जो पश्चिमी हिमालय क्षेत्र में बसे उत्तराखंड राज्य से निकलती है फिर दक्षिण की ओर बहते हुए गंगा के मैदान की ओर पूर्व दिशा में मुड़ जाती है | हिन्दू धर्म में गंगा नदी को सबसे पवित्र नदी का दर्जा मिला हुआ है। यह करोड़ों भारतीयों के जीवन का साधन है |

  • उद्गम स्थल – गंगोत्री (उत्तराखंड)
  • लम्बाई (किमी)– 2,655
  • अन्त– बंगाल की खाड़ी
  • प्रमुख बांध :- फ़रक्का बांध, टिहरी बांध, तथा भीमगोडा बांध
  • सहायक नदियाँ – अलकनंदा, भागीरथी, रामगंगा, यमुना, कोसी, घाघरा , गण्डक, गोमती

यमुना नदी (Yamuna River)

उत्तराखंड राज्य के उत्तरकाशी जिले में स्थित यमुना नदी,  यमुना नदी वेदों के काल से गंगा नदी के साथ साथ बहती है और इसे हिन्दू संस्कृति में पवित्र नदी माना गया है। बंदरपूंछ के दक्षिणी ढाल पर स्थितयमुनोत्री हिमानी से उत्पन्न होती है। और प्रयाग (इलाहाबाद) में गंगा से मिल जाती है। यमुना नदी की ऊंचाई समुंद्रतल से लगभग 6,316 मीटर है तथा कुल लम्बाई लगभग 1,376 किलोमीटर है।

  • उद्गम स्थल – उत्तराखंड में बंदरपूंछ पर्वत के यमुनोत्री हिमनद से
  • लम्बाई (किमी)- 1376
  • अन्त- इलाहबाद में गंगा नदी से संगम
  • नदी के किनारे बसे प्रमुख शहरें :- मथुरा दिल्ली आगरा औरैया इटावा  आदि
  • सहायक नदियाँ – चम्बल, बेतवा, गिरी, केन

रामगंगा नदी (Ramganga River)

रामगंगा नदी भारत की प्रमुख तथा पवित्र नदियों में से एक हैं,  स्कंदपुराण के मानसखण्ड में इसका उल्लेख रथवाहिनी के नाम से हुआ है, इस नदी का कोई मुहाना नहीं है, चन्द कदमों की दूरी के उपरान्त स्वच्छ स्वेत धवल सी भूगर्भ से निकलती है और इसी अस्तित्व में प्रकट होकर रामगंगा नाम से पुकारी जाती है |

  • उद्गम स्थल – उत्तराखंड के दूधातोली पर्वत से
  • लम्बाई (किमी)- 590
  • अन्य नाम :- रथवाहिनी
  • अन्त- कन्नौज के निकट गंगा में मिल जाती है
  • सहायक नदियाँ – कोह

घाघरा नदी (Ghaghara River)

घाघरा नदी (Ghaghara river) या कर्णाली नदी (Karnali river) तिब्बत, नेपाल और भारत में बहने वाली एक नदी है। यह गंगा नदी की एक प्रमुख उपनदी है, इसका अंत बिहार के निकट में जाकर हुआ है | लगभग ९७० किमी की यात्रा के बाद बलिया और छपरा के बीच यह गंगा में मिल जाती है |

  • उद्गम स्थल  – तिब्बत
  • नदी के किनारे बसे प्रमुख शहरें :- बहराइच, सीतापुर, गोंडा,बाराबंकी, दोहरी घाट, बलिया,अयोध्या, टान्डा, राजेसुल्तानपुर आदि।
  • लम्बाई (किमी)– 1080 किलोमीटर
  • नदी की गहराई कितनी है?– 600 मीटर
  • अन्त- छपरा (bihar) के निकट गंगा नदी में
  • सहायक नदियाँ – राप्ता , शारदा , छोटी गण्डक

चम्बल नदी (Chambal River)

चम्‍बल नदी (Chambal River) भारत में बहने वाली प्रमुख नदीयों में से एक है, चंबल नदी का उद्गम मध्य प्रदेश राज्य के इंदौर जिले के महू के निकट जानापाव पहाड़ी से होता है, इस नदी की लम्‍बाई 995 किमी है, चम्बल नदी को चर्मण्वती नदी, राजस्थान की कामधेनु, बारहमासी नदी, नित्यवाही नदी आदि नामों से जाना जाता है | इस नदी पर बने बॉध गांधी सागर, राणा प्रताप सागर, जवाहर सागर और कोटा बैराज आदि हैं |

  • उद्गम स्थल – मध्य प्रदेश
  • लम्बाई (किमी)- 966
  • नदी की गहराई कितनी है?– 400 मीटर
  • अन्त – ईटावा के पास यमुना नदी में
  • सहायक नदियाँ – पार्वती, नवाज, बनास , क्षिप्रा , दूधी

शारदा नदी (Sharada River)

शारदा नदी जिसको महाकालीकालीगंगा या शारदा के नाम से भी जाना जाता है, जिसका उद्गम स्थान वृहद्तर हिमालय में ३,६०० मीटर की ऊँचाई पर स्थित कालापानी नामक स्थान पर है, इस नदी का नाम काली माता के नाम पर पड़ा जिनका मंदिर कालापानी में लिपु-लीख दर्रे के निकट भारत और तिब्बत की सीमा पर स्थित है।

  • उद्गम स्थल – उत्तराखंड के पिथोरागढ़ जनपद में तिब्बत सीमा के निकट
  • लम्बाई (किमी)- 480
  • नदी के किनारे बसे प्रमुख शहरें :- तवाघाट,  टनकपुर, झूलाघाट, पंचेश्वर, बनबसा, धारचूला, आदि। जौलजीबी,  महेन्द्रनगर
  • अन्त- उत्तर प्रदेश में बहराम घाट के निकट घाघरा नदी में
  • सहायक नदियाँ – सरयू, पूर्वी रामगंगा, दहावर, सुहेली, धरया, लिसार

गोमती नदी (Gomati River)

गोमती उत्तर भारत में बहने वाली एक प्रमुख नदी है, जो गोमती नदी का उद्गम स्‍थल पीलीभीत जनपद से है, इस नदी का बहाव उत्तर प्रदेश में ९०० कि.मी. तक है | इस नदी का अंत गाजीपुर के निकट गंगा नदी में है, यह वाराणसी के निकट सैदपुर के पास कैथी नामक स्थान पर गंगा में मिल जाती है | गोमती नदी में यातायात नावों द्वारा मुहमदी तक होता है |

  • उद्गम स्थल – उत्तर प्रदेश का पीलीभीत जनपद
  • लम्बाई (किमी)- 940 किमी
  • अन्त- गाजीपुर के निकट गंगा नदी में
  • नदी के किनारे बसे प्रमुख शहरें :- तवाघाट,  टनकपुर, झूलाघाट, पंचेश्वर, बनबसा, धारचूला, आदि। जौलजीबी,  महेन्द्रनगर
  • सहायक नदियाँ – जोम्काई , बर्ना , सईं, गच्छा

बेतवा नदी (Betwa River)

बेतवा नदी यह नदी मध्य प्रदेश में भोपाल के दक्षिण पश्चिम से निकलती है, जैसी लंबाई कुल 480 किमी. है, निकलने के पश्चात भोपाल, ग्वालियर, झाँसी, औरय्या और जालौन से होती हुई हमीरपुर के निकट यह यमुना नदी में मिल जाती है | इसके ऊपरी भाग में कई झरने मिलते हैं, किन्तु झाँसी के निकट यह काँप के मैदान में धीमे-धीमें बहती है |

  • उद्गम स्थल – मध्य प्रदेश
  • लम्बाई (किमी)- 480
  • नदी के किनारे बसे प्रमुख शहरें :- भोपाल, विदिशा, झाँसी, ललितपुर ओरछा आदि।
  • अन्त- हमीरपुर के पास यमुना नदी में
  • सहायक नदियाँ – धनास, बीना

सोन नदी (Son River)

मध्य भारत की सोन नदी यमुना नदी के बाद गंगा की सबसे बड़ी दक्षिणी सहायक नदियों में से एक है। इसे सोनभद्र शिला के नाम से भी जाना जाता है, मध्य प्रदेश में बढ़ती और 784 किलोमीटर (487 मील) की लंबाई के साथ, सोन नदी भारत की सबसे बड़ी नदियों में से एक है | यमुना के बाद यह गंगा नदी की दक्षिणी उपनदियों में सबसे बड़ी है। इस नदी का बाढ़ क्षेत्र संकीर्ण है और केवल 3 से 5 किलोमीटर चौड़ा है।

  • उद्गम स्थल – मध्य प्रदेश
  • लम्बाई (किमी)- 784
  • अन्त- पटना के निकट गंगा नदी में
  • अन्य नाम :- हिरण्यवाह, सोनभद्र, सोनभद्र शिला आदि
  • सहायक नदियाँ – महानदी , रिहंद, घघर

राप्ती नदी (Rapti River)

राप्ती नदी मध्य नेपाल के दक्षिणी भाग की निचली पर्वतश्रेणियों में प्यूथान नगर के उत्तर से निकलती है, पूर्व-उत्तर प्रदेश की राप्ती का भी प्राचीन नाम इरावती था, इसकी कुल लम्बाई 640 किमी. है, गंगा के मैदान में उतरने से पूर्व यह कुछ दूर तक शिवालिक पर्वत के समांतर पश्चिम दिशा में बहती है | इस नदी के उत्तर की ओर से रोहणी नदी आकर मिलती है जोकि इसकी मुख्य सहायक नदी है |

  • उद्गम स्थल – नेपाल
  • लम्बाई (किमी)- 640
  • नदी के किनारे बसे प्रमुख शहरें :- देवरिया, बहराइच, श्रावस्ती, बलरामपुर, सिद्धार्थनगर, गोरखपुर डुमरियागंज एवं गोरखपुर आदि
  • अन्य नाम  :- इरावती नदी, पश्चिमी राप्ती आदि
  • अन्त- बारहस के निकट घाघरा नदी में

गण्डक नदी (Gandak River)

गण्डकी नदी, नेपाल और बिहार में बहने वाली एक दी है, इसको पुराणों में इसे गंगा की सात धाराओं में से एक धारा माना जाता है, भागवत एवं ब्रह्मांड पुराण में बलरामजी की तीर्थयात्रा प्रसंग में यहां आने का विशेष उल्लेख है, गण्डक नदी को बड़ी गंडक या केवल गंडक भी कहा जाता है |

  • उद्गम स्थल – तिब्बत नेपाल सीमा पर धौलागिरी पर्वत 
  • लम्बाई (किमी)- 630 (भारत में 300)
  • अन्त- पटना के निकट गंगा नदी में
  • नदी के किनारे बसे प्रमुख शहरें :- हाजीपुर, सोनपुर
  • सहायक नदियाँ – त्रिशूली गंगा

हम आपसे आशा करते है आपको यह जानकारी अवश्य पसंद आई होगी, यदि आप हमारे द्वारा ऐसी ही जानकारी पाना चाहते है तब हमारे इस ब्लॉग को जरूर फॉलो करे, नीचे हम आपको इसी लेख से संबंधित जानकारी बता रहे है आप इनको भी अवश्य देखे :

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button